Monday, 21 December 2015

story on value of freedom in hindi

हिंदी कहानी स्वतंत्रता का महत्व


एक गाने वाला पक्षी  एक सोने के पिंजरे में रहकर उदास हो गया और एक दिन उसने गाना छोड़ दिया.
उसके स्वामी  ने उसे स्वादिष्ट भोजन व मीठी मीठी बातें करके खूब लाड प्यार किया किन्तु उस पर कुछ फ़र्क न पड़ा.
अत्यंत निराश होकर वह पिंजरे के पास गया और उसने पक्षी से पुछा,  "तुम्हे प्रसन्न करने के लिए मैं क्या करू?". पक्षी बोला,"जंगल जाओ और मेरे सभी साथियों को मेरी तरफ से शुभकामनायें दो. फिर वपस आकर मुझे सब समाचार देना."
उस व्यक्ति एक पक्षी की इच्छा पूर्ण की.उसकी बातें सुनकर एक पक्षी  ह्रदय विदारक चीख़ मारकर जमीन पर गिर पड़ा.
भारी दिल से वह व्यक्ति घर लौटा . जब पिंजरे के पक्षी ने हाल पुछा तो उस व्यक्ति ने झिझकते हुए सारी घटना बताई. इतना सुनते ही पिंजरे का पक्षी तुरंत गिर पगा और मर गया.
वह आदमी बहुत दुखी हुआ.अपने लाडले पक्षी को उसकी दफनाने की हिम्मत ही नहीं हो रही थी. उसने बड़े प्यार से पक्षी को उठाया और पिंजरे से निकाल कर खिड़की के पास रख दिया.
एक पल में पक्षी ने अपने पर फैलाये और पास के पेड़ की टहनी पर जा बैठा. उदास होकर व्यक्ति ने पुछा," मैंने तुम्हे इतना प्यार दिया. तुम इस प्रकार मुझे धोखा कैसे दे सकते हो?"
पक्षी बोला ," मेरे जंगल के मित्र ने मुझे एक अनमोल सन्देश भेजा था की यदि मैं मरने का ढोंग करू तो स्वतंत्र हो जाऊंगा ."ऐसा कहकर वह पक्षी उड़ गया .
इसी तहर हम यदि मोक्ष पाना चाहते हैं तो हमें जीते जी मरने की कला सीखनी होगी.
 
Note: This story is not my original creation. I have read it somewhere and I am providing only Hindi translation here.
यह कहानी मेरी अपनी रचना नहीं है.मैंने इसे कहीं पढ़ा है और उसका हिंदी संस्करण यहाँ लिखा है.